क्वेटा। भारत के कथित जासूस कुलभूषण जाधव को बलूचिस्तान से कभी नहीं पकड़ा गया, बल्कि सरकार समर्थित पाकिस्तानी धार्मिक उग्रवादियों ने उसका ईरान से अपहरण किया और पाकिस्तान के सुरक्षा एजेंसियों को सौंप दिया। ये बातें एक वरिष्ठ बलोच नेता ने कहीं।

इसे भी पढ़ें: लोअर परेल के होटल में भीषण आग, 14 की मौत कई घायल

बलोच नेता मार्री ने आगे कहा कि ऐसी अनेक घटनाएं हो चुकी हैं जिसमें धार्मिक उग्रवादियों ने बलोच शरणार्थियों को अफगानिस्तान जाने के दौरान अपहरण किया और आईएसआई व सेना के हाथों बेच दिया।

इसे भी पढ़ें: गुजरात के सीएम बनने के बाद रुपाणी ने अपने मंत्रियों को बांटे विभाग

उन्होंने यह भी कहा कि 70 के दशक के अंत में और 80 के दशक में पाकिस्तान समर्थित तालिबान बलोच शारणार्थियों की हत्या के बाद उनका सिर धड़ से अलग कर तस्वीर खींचता था और प्रति सिर की दर से आईएसआई और पाकिस्तानी सेना से पैसे लेता था। जाधव की मां और पत्नी के साथ किए गए दुर्व्यवहार पर बलोच नेता ने कहा कि इससे भारत और दुनिया की आंखें खुल जानी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि भारत से यात्रा कर जाने वाली बुजुर्ग महिला के साथ जब पाकिस्तान इस तरह का अभद्र व्यवहार कर सकता है तब यह समझा जा सकता है कि पाकिस्तानी जेल में कैद बलोच महिलाओं के साथ कैसा सलूक होता होगा ?

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here