नई दिल्ली। साल 2017 भारत की विदेश नीति के लिहाज से नए आयामों को छूने वाला साल रहा। पूरे साल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सहित पूरा विदेश मंत्रालय भारत को दुनिया में एक शक्तिशाली देश के रूप में स्थापित करने के प्रयासों में लगा दिखा।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के नापाक इरादों के बीच जेलों में यातना झेल रहे भारतीय कैदी: बलजिंदर कौर

सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र की महासभा के 72वें अधिवेशन में शिरकत की और भारत का पक्ष पुरजोर तरीके से रखा। इसी दौरान विदेश मंत्री ने कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की। सुषमा स्वराज ने एनवायरमेंट पैक्ट पर हुई लीडरशिप सम्मिट में हिस्सा लिया। साथ ही तीसरी भारत-कारीकोम मंत्री स्तर बैठक में शिरकत की। इसी दौरान विदेश मंत्री स्वराज ने भारत-अमेरिका-जापान की मंत्री स्तर की त्रिपक्षीय बैठक में हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें: एस.एन. बोस की 125वीं जयंती को प्रधानमंत्री करेंगे वीडियो कॉन्फ्रेंस से संबोधित

पाक जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में भारत की अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में जीत ने भारत की विश्व स्तर पर साख को मजबूत किया। पूरे साल भारत की ओर से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता को लेकर अभियान चलता रहा। यूएन में पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के लिए भारतीय प्रयास जारी रहे।

इसे भी पढ़ें: 31 दिसंबर की रात 8 बजे के बाद बंद रहेगा राजीव चौक मेट्रो स्टेशन

साल 2017 में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत आए और इसी के साथ भारत-जापान के संबंधों को मजबूती मिली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 9वीं बिक्र्स सम्मिट में हिस्सा लेने चीन गए। मोदी ने भारत के पड़ोसी देश म्यांमार की यात्रा की और भारत-म्यांमार संबंधों को नई ऊंचाईयों पर ले गए। इसी तरह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में इंडियन ओसियन कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। भारत ने इसी साल श्रीलंकाई विद्याथियों को स्कॉलरशिप देने का एलान किया। विदेश मंत्री नेपाल में हुई 15वीं बिम्सटेक मंत्री स्तरीय बैठक में हिस्सा लेने काठमांडू भी गईं।

साल 2017 के दौरान ही भारत-डच संबंधों की नई इबारत लिखी गई। डच विदेशमंत्री बर्ट कोएंडर भारत आए और दिल्ली के अलावा बेंगलुरु, केरल भी गए। अपनी भारत यात्रा के दौरान उन्होंने विदेशमंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात की। स्विस फेडरेशन की अध्यक्ष डोरिस लुउथार्ड भी अपनी आधिकारिक भारत यात्रा पर दिल्ली आई थीं। इसी तरह भारत के पड़ोसी देश नेपाल के प्रधानमंत्री ने भारत यात्रा की और भारत-नेपाल संबंधों में कुछ समय के लिए आई दूरियां भर गईं।
साल 2017 के जून में पीएम मोदी यूएस, पुर्तगाल और नीदरलैंड की यात्रा पर गए। जुलाई में पीएम ने इजराइल की यात्रा की और भारत-इजराइल संबंधों की नई इबारत लिखी। इसी तरह जर्मनी के हेम्बर्ग में हुई जी-20 सम्मिट के दौरान भारत ने जी-20 राष्ट्रों के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए कई बैठकें की।

साल 2017 के दौरान ही दिल्ली-काबुल फ्लाइट शुरू हुई, जिससे भारत-अफगानिस्तान के बीच हवाई संपर्क बढ़ा और भारत-अफगानिस्तान के बीच एयर कॉरिडोर की स्थापना हुई। साल 2017 में भारत सहित पूरी दुनिया ने तीसरा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया| इससे भारतीय संस्कृति को वैश्विक तौर पर और पहचान मिली।

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here