नई दिल्ली। अंतरिक्ष की दुनिया में भारत ने इतिहास रच दिया है। आज इसरो का सैटेलाइट भेजने का शतक पूरा हो गया है। इसरो ने शुक्रवार सुबह 9.28 पर पीएसएलवी के जरिए एक साथ 31 उपग्रह को लॉन्च किया। भेजे गए कुल 31 उपग्रहों में से तीन भारतीय हैं और 28 छह देशों से हैं: कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका।

इसे भी पढ़ें: सीबीएसई ने जारी की 10वीं और 12वीं की डेटशीट, 5 मार्च से शुरू होंगी परीक्षाएं

पृथ्वी अवलोकन के लिए 710 किलोग्राम का कार्टोसेट-2 सीरीज मिशन का प्राथमिक उपग्रह है। इसके साथ सह यात्री उपग्रह भी है जिसमें 100 किलोग्राम का माइक्रो और 10 किलोग्राम का नैनो उपग्रह भी शामिल हैं। कुल 28 अंतरराष्ट्रीय सह-यात्री उपग्रहों में से 19 अमेरिका, पांच दक्षिण कोरिया और एक-एक कनाडा, फ्रांस, ब्रिटेन और फिनलैंड के हैं।

इसे भी पढ़ें: लालकिले पर हमला करने वाला आरोपी बिलाल अहमद कावा गिरफ्तार

बौखलाया पाकिस्तान

भारत की इस उपलब्धि पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भारत जिन उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रहा है, उससे वह दोहरी नीति अपना रहा है। इन उपग्रहों का इस्तेमाल नागरिक और सैन्य उद्देश्य में किया जा सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि इनका इस्तेमाल सैन्य क्षमताओं के लिए ना किया जाए, अगर ऐसा होता है कि इसका क्षेत्र पर गलत प्रभाव पड़ेगा।

आपको बता दें कि इसरो ने अपनी वेबसाइट पर गुरुवार को लिखा, “पीएसएलवी-सी 440 के चौथे चरण के प्रणोदक को भरने का काम चल रहा है।” चौथे चरण के पीएसएलवी-सी-40 की ऊंचाई 44.4 मीटर और वजन 320 टन होगा।पीएसएलवी के साथ 1332 किलो वजनी 31 उपग्रह एकीकृत किए गए हैं ताकि उन्हें प्रेक्षपण के बाद पृथ्वी की ऊपरी कक्षा में तैनात किया जा सके। बता दें कि अभी बुधवार को ही केंद्र सरकार ने मशहूर वैज्ञानिक के शिवन को इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) का नया चेयरमैन नियुक्त किया है उन्होंने किरन कुमार की जगह ली कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने बुधवार को शिवन के नाम को मंजूरी दे दी किरन का कार्यकाल 14 जनवरी को पूरा होने जा रहा है। हालांकि, शुक्रवार को लॉन्च के दौरान किरन कुमार भी मौजूद रहे थे

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here