नई दिल्ली। वैश्विक प्रकृति फिल्म महोत्सव में सामाजिक सरोकार से जुड़ी फिल्मों का जलवा रहा| महोत्सव के पांचवें दिन मनोज पाल की फिल्म ‘द रियल गिफ्ट’ और ‘प्रकृति का कर्ज’ को दर्शकों ने खूब सराहा। ‘द रियल गिफ्ट’ सामाजिक सरोकार की फिल्म थी जिसमें दिखाया गया कि आज जिस प्रकार से गाली देकर संबोधन किया जाता उस चलन को आवश्यक रूप से बंद किया जाना चाहिए। दूसरी मूवी ‘प्रकृति का कर्ज’ में प्रकृति की कैसे रक्षा की जाए का संदेश था।

मोटोरोला ने दिया नए साल का तोहफा, Moto G5S Plus के दामों में की कटौती

वैश्विक प्रकृति फिल्म महोत्सव के पांचवें दिन सेमिनार का विषय रखा गया ‘प्रकृति एवं गो माता’। इस मौके पर विश्व प्रकृति परिवार के संस्थापक गुरू जी भू ने कहा कि आज पीढ़ियों को समझाने की जरूरत है कि गौ क्यों हमारी माता है।

मंच का संचालन कर रही डॉ श्रीनिवास राव सुरभि ने कहा कि हमने संकल्प लिया है कि हम गौरक्षा करेंगे। इसके लिए हम हमेशा तैयार हैं। सेमिनार को संबोधित करते हुए गौ रक्षा आंदोलन के दिल्ली प्रांत के संरक्षक राधाकांत ने कहा कि समाज की स्थिति खराब हो गई है। आज छोटे-छोटे बच्चे मनोरोग के शिकार हो रहे हैं|

इसके लिए समाज और सरकार दोनों दोषी हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के समय हमारी जनसंख्या 80 करोड़ और गोवंश 120 करोड़ थे। आज मनुष्य 120 करोड़ हैं, लेकिन गौवंश 8 करोड़। हमें इस स्थिति को सुधारना होगा। उन्होंने कहा कि केवल आंदोलन करने से कुछ नहीं होगा बल्कि हमें गौ पालन भी करना होगा।

2017 की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनी ‘टाइगर जिंदा है’

वर्ल्ड हेल्थ इनिशिएटिव फॉर पीस (डब्ल्यूएचआईपी) के अध्यक्ष योग चिकित्सक डॉ के के झा ने सभी सदस्यों को शपथ दिलायी, ‘आइये, हम सभी लोग इस अवसर पर शपथ लें कि जीवनभर अपने आपको तथा प्रकृति को स्वस्थ रखने के लिए प्रयास करते रहेंगे।’ उल्लेखनीय है कि वैश्विक प्रकृति फिल्म महोत्सव 25 से 30 दिसंबर तक कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजन किया गया है।

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here