सोनीपत। हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा है कि मौजूदा परिप्रेक्ष्य में खान-पान व दिनचर्या का जो तरीका बदला है वही शारीरिक व मानसिक रोगों का कारण बन गया है। उन्होंने बच्चों का आह्वान किया कि वे जंकफूड व कोल्ड ड्रिंक्स से बचें और स्वस्थ समाज की रचना में अपना योगदान दें। जंकफूड व कोल्ड ड्रिंक्स शरीर के लिए घातक है। राज्यपाल देवव्रत शनिवार को सोनीपत जिले के हिन्दू कन्या महाविद्यालय में ‘आजादी बचाओ आन्दोलन’ द्वारा आयोजित युवा स्वास्थ्य सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: निम्बाहेड़ा में जुलूस के दौरान विवाद, जमकर तोड़फोड़, तीन पुलिसकर्मी घायल

युवा पीढ़ी पर बढ़ते मानसिक व शारीरिक दुष्प्रभावों की चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि मानव शरीर के रक्त में 80 प्रतिशत क्षारीय व 20 प्रतिशत अम्लीय तत्व होते हैं। यह अनुपात कभी शरीर को रोगी नहीं होने देता है, लेकिन जंकफूड में करीब 80 प्रतिशत अमलीय तत्व होते हैं। इस कारण यह शरीर के लिए घातक होता है। उन्होंने कहा कि सभी स्कूल-कॉलेजों के सामने खोले गए जंकफूड सेंटर बंद किए जाने चाहिए, क्योंकि इसके उपयोग से उनके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: व्यापमं घोटाला: जब्त होंगे 18 मेडिकल छात्रों के दस्तावेज

आचार्य देवव्रत ने आजादी बचाओ आंदोलन के सभी सदस्यों को इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन के लिए बधाई दी। उन्होंने भविष्य में भी ऐसे ही कार्यक्रम आयोजित करने के लिए संस्था को 51 हजार रुपये देने की घोषणा की। कार्यक्रम को हरियाणा सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने भी संबोधित किया। उन्होंने सवाल किया कि युवा वर्ग का जंक फूड और ब्लू व्हेल गेम से लगाव क्यों बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमें तकनीक को अपनना चाहिए, लेकिन इसके गलत उपयोग से भी बचना है। उन्होंने सोनीपत के व्यवसायी हंसराज की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने कोल्ड ड्रिंक्स की एजेंसी लेने से इनकार किया, जो बच्चों के भविष्य को बचाने के लिए उनका सार्थक प्रयास है। 

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here