मेरठ। मेरठ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभा में बार-बार विघ्न पड़ने को लेकर पार्टी नेतृत्व ने सख्त रूख अपनाया है। पार्टी नेतृत्व ने साफ कहा है कि अगर योगी की सभा में कोई विघ्न पड़ा तो जिम्मेदार भाजपा नेताओं पर गाज गिरना तय है। इसलिए जिला और महानगर भाजपा को मुख्यमंत्री की आभार जनसभा में भीड़ जुटाने का जिम्मा सौंपा गया है। इस फरमान के बाद भाजपा नेता बैठकों में जुट गए हैं।

इसे भी पढ़ें: इन्फोसिस के नए सीईओ ने संभाला कार्यभार

छह जनवरी को सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरठ में मोहिउद्दीनपुर चीनी मिल के पेराई सत्र और मिल के विस्तारीकरण का शुभारंभ करेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री के तौर पर योगी मेरठ में तीन बार आ चुके हैं और तीनों ही बार मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में कुछ न कुछ विघ्न पड़ गया। छह मई को मुख्यमंत्री द्वारा दलित बस्ती का दौरा करने के समय लोगों ने काले झंडे दिखाकर उनकी मेरठ यात्रा का मिजाज किरकिरा कर दिया। 18 नवंबर को निकाय चुनाव के दौरान दिल्ली रोड स्थित रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री की रैली भीड़ के लिहाज से फैल हो गई।

इसे भी पढ़ें: आईटीटीएफ की ताजा रैंकिंग में 49वें स्थान पर पहुंचे जी साथियान

मुख्यमंत्री की रैली फेल होने के भी तीन कारण रहे। पहले प्रशासनिक स्तर पर, जिस कारण कुछ युवकों ने काले झंडे दिखाए। इसमें मेरठ पुलिस-प्रशासन की एक तरह से बड़ी लापरवाही सामने आई। नगर निगम चुनाव के दौरान सीएम की सभा फ्लॉप होने की दूसरी बड़ी वजह यह रही कि उस दौरान भाजपा में गुटबाजी चरम पर था। तीसरी बड़ी वजह यह थी कि गुटबाजी अंतिम चरण पर होने के कारण कोई नेता मुख्यमंत्री की सभा में भीड़ जुटाने को लेकर ज्यादा सक्रिय नहीं दिखा। इसके बाद नगर निगम चुनाव में महापौर पद की उम्मीदवार कांता कर्दम भी हार गईं। इन सबको देखते हुए मोहिउद्दीनपुर मिल आगमन को लेकर जहां मेरठ प्रशासन फूंक-फूंक कर कदम रख रहा है। मेरठ भाजपा के लिए इस वक्त अग्निपरीक्षा का वक्त है। चीनी मिल में सभा को लेकर प्रदेश के गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा मेरठ पहुंचकर तैयारियों का जायजा ले चुके हैं।

भाजपा के क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी आलोक सिसोदिया का कहना है कि मुख्यमंत्री प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार की उपलब्धियों को जनता को बता रहे हैं। किसानों के हित में प्रदेश सरकार उल्लेखनीय कार्य कर रही है। छह जनवरी की रैली पूरी तरह से सफल रहेगी। इसमें बड़ी संख्या में लोग जुटेंगे।

हर विधानसभा से जुटेंगे 10 हजार लोग

भाजपा के प्रदेश नेतृत्व ने छह जनवरी की आभार जनसभा में भीड़ जुटाने के लिए प्रत्येक विधानसभा से दस-दस हजार लोगों को लाने का लक्ष्य दिया है। इसमें पार्टी सांसद और विधायकों को लगाया गया है। रैली में कोई भी गड़बड़ी होने पर पार्टी नेताओं पर गाज गिरना तय माना जा रहा है।

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here