नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने तेल एवं गैस क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और इजरायल के बीच सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्‍ताक्षर किये जाने को मंजूरी दे दी है।

36,000 रुपये की कटौती के साथ गूगल Pixel XL की कीमत हुई अब ये…

इस एमओयू से ऊर्जा क्षेत्र में भारत एवं इजरायल के आपसी संबंधों को और मजबूती मिलने की आशा है।

इस समझौते में उल्लिखित सहयोग से एक-दूसरे के देशों में निवेश, प्रौद्योगिकी हस्‍तांतरण, अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी), संयुक्‍त अध्‍ययन करने, मानव संसाधनों के क्षमता निर्माण और स्‍टार्ट-अप्‍स के क्षेत्र में गठबंधन करने में सहूलियत होगी।

इससे पहले अंतर्राष्ट्रीय विकास सहकारिता के लिए इजरायल की एजेंसी, मशाव के प्रमुख राजदूत गिल हेस्केल 4-7 – दिसंबर तक भारत की तीन दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर हैं।

अपनी भारत यात्रा के दौरान वे दिल्ली, बेंगलुरु और मुंबई का आधिकारिक दौरा करेंगे। भारत-इजरायल कृषि परियोजना (आईआईएपी) के लिए तीन साल की कार्रवाई योजना के शुभारंभ के बाद उनकी यात्रा पर प्रकाश डाला जाएगा।

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोंकणा सेन का आज जन्मदिन

यात्रा के अवसर पर, भारत में इजरायल के राजदूत डैनियल कार्मोन ने कहा, ‘आईआईएपी इजरायल के बाहर मशाव की सबसे बड़ी परियोजना है, और हमारे द्विपक्षीय संबंधों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हमारे कृषि सहयोग की सफलता की कहानी किसी से पीछे नहीं है, और यह केवल शुरुआत है हमें पानी, इनोवेशन और शिक्षा के क्षेत्र में उपलब्धियां देखने की उम्मीद है।

 

Advertisement
Nokia
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here